उन्हें जिंदा जलाने की इच्छा थी निर्भया की

nirbhiya

दिल्ली के निर्भया कांड में सुप्रीम कोर्ट ने चार दोषियों की मौत की सजा को बरकरार रखने का फैसला सुनाया है। इससे पहले दर्द से तड़पती निर्भया ने अपनी अंतिम इच्छा जाहिर की थी कि उसके बलात्कारियों को अपने किए की सजा मिलनी चाहिए, उन्हें केवल फांसी पर नहीं लटकाया जाए बल्कि जिंदा जला देना चाहिए।

तत्कालीन सब-डिविजनल मैजिस्ट्रेट ऊषा चतुर्वेदी ने निर्भया की मौत से पहले उसके बयान दर्ज किए थे। शुक्रवार को उन्होंने निर्भया के आखिरी बयान को याद करते हुए हमारे सहयोगी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया से कहा, ‘आज मैं बहुत खुश और संतुष्ट हूं कि इन लोगों को फांसी की सजा मिलेगी। निर्भया ने अपना आखिरी बयान भारी पीड़ा के साथ दिया था।’
ऊषा ने 21 दिसंबर को उसके पहले ऑपरेशन के बाद कुछ देर के लिए बात की थी। उन्होंने बताया कि निर्भया ने अपनी बात भारी नाराजगी और घृणा के साथ रखी थी। ऊषा ने कहा, ‘निर्भया का आखिरी बयान 4 पेज का है जो उसने एक बार में ही दिया था। इतने दर्द में होते हुए भी उसने कहा था कि बलात्कारियों को केवल फांसी पर ही नहीं लटकाया जाना चाहिए बल्कि उन्हें जिंदा जला देना चाहिए।’ (इनपुटः एजेंसी)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *